मिसाले-ए-यार

मुकम्मल कोशिशें जारी रखते हैं जो उन्हे फैज कहा करते हैं किस्मत साथ दे कोशिशें देख जिनकी उन्हे मेरा यार कहा करते हैं।  साथ चले हैं खड़े  सहारा बने एक दूसरे का हम दोनो नजारे ये दोस्ती के देख लोग बखूबी जला करते हैं।  अभी तो सफर का पहला पड़ाव भी नहीं आया जिंदगी में … Continue reading मिसाले-ए-यार

आदत

दिमाग दौड़ाने की आदत से मजबूर आवाम है यहाँ सिर्फ फायदा उठा लेने की आदत है यहाँ। सभी कर्मो का हिसाब होता इसी जग में कर्मो का फल मिले तो रोने की आदत है यहाँ। भूलकर आपबीती सब मुस्कुरा दिया करते हैं ख्वाबों में रहकर जीने की आदत है यहाँ। कुछ लम्हे जो बचा लिया … Continue reading आदत