बच्चे

असमनजस से अचानक जूझती जिंदगी, बदलते वक्त और जज्बातों को बूझती जिंदगी, आगे उम्र से अपनी भागती ये जिंदगी, क्या समझाएं माँ बाप दूसरी तरफ झांकती उनकी जिंदगी, कच्ची उम्र में बेफिक्री छोड Emotional होती ये उनकी जिंदगी, Media - social media के असर उन जज्बातों से बनी ये उनकी जिंदगी, माँ बाप को छोड़ … Continue reading बच्चे

फटेहाल है मित्र

जूते घिसे छेद वाली शर्ट पहने फटेहाल मेरा मित्र बस केशव के गुण गाए, गृह अशांत पर पत्नी शांत उसकी इसी आनन्द मे मुस्कुराहट मुख पर आए, रास्ता कहीं दिखता भी है अगर मरिचिका सा स्थान और आगे चला जाए, कन्हैया ने पकड़ा तो है हाथ यही आस ले मन में, बस प्रतिदिन बिताए, कभी … Continue reading फटेहाल है मित्र