लगे रहो

हंसते हो इस कदर कौन सा गम हो संजोए, कितने खुश थे पहले जो याद करके हो रोए। दारू जरा थोड़ी थोड़ी ही पिया करो, जिंदगी जरा मुस्कुरा कर जिया करो। समझ कर की यादें छलावा हैं होती, जिंदगी तुम्हे उलझा देख कितनी खुश है होती। दुख सुख मिले हैं जितने ये हिसाब के ही … Continue reading लगे रहो

लीलाएं

माया महामाया की स्थान सर्वोपरि है, निर्गुण रूप व्याप्त करे सगुण में दिगम्बरी है, महाकाली के नाम सहस्त्र संग चौंसठ योगिनी हैं, खड़ग खप्पर धारण करे राक्षसों को चरणो मे रखती है, मेरे हाथों से भोजन करे अधरों पर मुस्कान रखती है, ब्रह्मांड मे सबसे सुन्दर रुप धरे सिर्फ मुण्ड माला धारण कर विचरती है, … Continue reading लीलाएं