ये लम्हा याद आएगा

जब साँस छूटेगी ये लम्हा याद आएगा बिना जाने की कितना अकेला दूर चला जाएगा, रोता सिसकता अंधेरे बरपाए थे जब दूर तलक अपनी छाया से भी अभिग्न खुद को पाएगा। —-------------- जब साँस छूटेगी ये लम्हा याद आएग हाथ जोड़े खड़ा कंपकंपाया सा खुद को पाएगा, प्रभु प्रत्यक्ष होते हुए भी यूँही रोता आया … Continue reading ये लम्हा याद आएगा