तुम्हें प्यार करने की आदत में

मोहब्बत मासूम सी जान ए जहां मालूम सी, पैरों में पायल आंखों में काजल, छम छम करती धीरे से चलती, पैरों तले फूल भी बेपरवाही में भूल भी, हमारी तरफ आती हो ऐसे सुबह की उजली किरण में धूप खिल आती हो जैसे, मोहब्बत के इस मंज़र में आंखों के समंदर में, तुम्हारी मुस्कुराहट में … Continue reading तुम्हें प्यार करने की आदत में

हम तुम्हारे लिए

दुश्मनी में मोहब्बत का इंतकाम हो तो, तुम्हारी आंखों में नफरत और होठों पर मुस्कान हो तो, जीत जाओगे इस दुनिया को एक मंजर में ही, तुम्हारी नफरत में भी अपनेपन का एहसास हो तो। ***** जिंदा है तुम्हारी मोहब्बत को अपनाने के लिए, दिल में घर कर जाने के एक पल का एहसास हो … Continue reading हम तुम्हारे लिए

अनारकली सी सूरत

दुनिया मे हम जी तो लेते हैं तबस्सुम सी खूबसूरती कहां से लाएं, तुम जो दुनिया से बेखबर होकर चले आते हो, तुम्हें दुनिया की बेदर्दी की सूरत कैसे दिखाएं, लाए हैं तुम्हारे लिए अपने अश्कों को संभाल कर, तुमने मुंह ही दुनिया से फेर लिया तो हम तुम्हें खुशियों का आईना कैसे दिखाएं। *********** … Continue reading अनारकली सी सूरत

मोहब्बत

मोहब्बत बेवफाई की मोहताज नहीं होती, किस्मत में हो प्यार तो तनहाई नहीं होती, जैसे शमा में है आग उसमें परछाईं नहीं होती, उसमें परवाने जल जाते हैं पर उनकी जुदाई नहीं होती। जिंदगी के फलसफे यूं ही नहीं आते समझ पुलस्त्य, हर मुकाम पर यारों की रहनुमाई नहीं होती, तारीख जब तलक न बदल … Continue reading मोहब्बत

लैंडर विक्रम

हमारे चंद्रयान अभियान के अपनी सफलता के इतने करीब पहुंचकर, असफल हो जाना थोड़ा निराशाजनक जरूर रहा है, परन्तु भविष्य में हमें सफलता मिलना निश्चित हो गया है। एक कवि की कल्पना में, लैंडर विक्रम ने असफल होने पर चांद को क्या कहा होगा, उस पर कुछ पंक्तियां नीचे लिखी है, उम्मीद है आपको पसंद … Continue reading लैंडर विक्रम

मेरा चंद्रयान

तुझसे ताउम्र अब मेरा याराना रहेगा, घर देख लिया है अब आना जाना रहेगा । हौंसलों की जिद तू भी देखना, एक रोज तेरे घर मेरा आशियाना रहेगा । रास