मजबूर कर दो

हमें सीने से लगाकर

हमारी सारी कसक दूर कर दो,
हम सिर्फ तुम्हारे हो जाऐ

हमें इतना मजबूर कर दो।

तनहाई में तड़पा करें

मोहब्बत की तासीर इतनी तेज़ कर दो,

तुम्हारी हर अंगड़ाई की याद आए

हमे इतना मजबूर कर दो ।

कोशिशें बेकार जाया करती हैं

हमारी मुश्किलें दूर कर दो,

तुम्हारी यादों की सफेद चादर ओढ़े रहें

इतना मजबूर कर दो।

बेखयाली में मुदत्त से तुम्हारी

तबस्सुम के दीदार होते रहे,

अब बस भी करो,

अपनी बाहों में लेकर हमे मजबूर कर दो।

Advertisements