अतीत के मुहाने से

अतीत के मुहाने से

झांकती परछाईं

कुछ अच्छी

कुछ दुखदाई हैं सौदाई,

झुकते हुए से पेड़ों की

तन्हाई

और खट्टे मीठे

फलों की तराई,

बागों में खेलते हुए

टहनियों पर लटकना,

आमों की मिठास को

पेड़ों पर ही चखना,

बाहर की हर बात

घर में बकना,

कोई सुने

या ना सुने

अपनी बात पूरी करना।


अतीत के मुहाने से

झांकती परछाईं,

कुछ अच्छी

कुछ दुखदाई हैं सौदाई।

शैतानियों करना

और शाम को पिटना,

फिर दोस्तों से मिलकर

अपनी कहानी सुनाना।

इंतहान में कम नंबर आना

फिर पिता की जगह

दोस्त से sign कराना।

बड़े होने की जल्दी में

पापा की

सबसे अच्छी शर्ट नापना,

फिर उनके देखने पर

खूब ज़ोर से थप्पड़ खाना।


अतीत के मुहाने से

झांकती हुई परछाई,

कुछ अच्छी

कुछ दुखदाई हैं सौदाई।

Leave a Reply