जिक्र उस ख्वाब का

जिक्र उस ख्वाब का करें कैसे जज्बात निकल आएंगे , पिघलती हुई शमा के मोम को छुआ तो हाथ जल जाएंगे , तुम बेफिक्र रहो परवाना न बनो पंख जल जाऐंगे, जिन्दा रहना तो सभी जानते हैं हम उड़ जाएंगे और निशान रह जाएंगे, इस कदर खुदा को प्यार करो रहनुमा सभी जलखर खाक हो … Continue reading जिक्र उस ख्वाब का

Advertisements

शांत

दिल में कुछ शब्दों में कुछ मुखारबिंद शांत, हथेली में कुछ होठों पर कुछ सुरताल शांत, पैरों में कुछ सृष्टि में कुछ ब्रह्म हुए शांत, राधा में कुछ लक्ष्मी में कुछ प्रेम सरोवर है शांत, भक्ति में कुछ कर्म में कुछ प्रभु हैं शांत, खोजते हो कुछ मिलता है कुछ प्रकृति है शांत, अपनों में … Continue reading शांत

पितृ छाया

जिसका ध्यान धर दुःख क्षीण हो जाते, स्मरण मात्र से सुख उपलब्ध हो जाते, सम्मुख होने पर जिसके हो अस्तित्व पर नाज़। वो जिसने चलना सिखाया, वो जिसने पढ़ाया लिखाया, वो जो थामे है मेरी ऊँगली आज, वो जिसने अपना पसीना बहाया. वो जिसने कभी हक़ ना जताया, वो जो है सर्व सहायक, वो है … Continue reading पितृ छाया

पिता श्री – आपका आगमन 

अंग्रेजों के बनाये कुछ त्योहार भी अच्छे होते हैं रिश्तों में पिरोए हुए त्योहार अच्छे होते हैं  आज father's day पर आपका आगमन मेरे यहाँ  ऎसे आशिर्वाद के सूचक भी बहुत अच्छे होते हैं।  ___ आपकी छत्र ओ छाया सिर पर आशिर्वाद है आपका आना, पीठ थपथपाना आशिर्वाद है आपको super dad क्यों न कहें … Continue reading पिता श्री – आपका आगमन 

माता पिता की वन्दना 

हे माँ, तुम्हारे चरण स्पर्श, परम पूज्य तुम महालक्ष्मी हो, हे पिता, तुम्हारे चरण स्पर्श, परम पूज्य तुम नारायण हो। आशिर्वाद लिये चल रहा मै, नितदिन अब पूजा है, तुम्हारे प्यार एवं आशिर्वाद की अवधारणा अब गंगा है।

हे पिता

हे पिता! तुम्हारी सीख का घ्यान धर विचरता हूँ, तुम्हारी छवी का अनुसरण करता चलता हूँ, उंगली पकड़े तुम्हारी अभी तक खड़े हैं हम, हमारी संस्कृति और सभ्यता तुमसे है तुम हो गुरू तुम्हारी सीख पर चलता हूँ। हे पिता! तुम्हे प्रणाम कर अग्रसर होता हूँ, कर्म कर तुम्हारी प्रशंसा की उपेक्षा करते हैं, सौम्य … Continue reading हे पिता

पिता का श्रण

हम हैं जहाँ में, किया परिश्रम आपने माँ की इच्छाओं का सत्कार शीलता का परिचय दिया आपने। थे कुछ शैतान हम दिया स्वत्व तब आपने हम शिक्षित हैं आज ऐसा अयोजन किया आपने। पिता का कर्तव्य हर निभाया सदा है आपने जब भी हम लडखडाएं तो सब्र से सदा सम्भाला आपने । खड़े हैं आप … Continue reading पिता का श्रण

मुस्कुरा जो दिया करते हो

रहमत खुदा की आदत नहीं हुआ करती ज़ज़बा ए मोहब्बत से खुदा मिला करते है। तुम निज़ाम से ताल्लुक भी रखो अगर मिन्नतों से ही खुदा की रहमत के हकदार हुआ करते है। तुम्हारी मुस्कुराहट हमे कुछ यूं मिला करती है, इस नाचीज़ पर नजर ए करम कर दो, हमे कुछ सख्त ताकीद मिला करती … Continue reading मुस्कुरा जो दिया करते हो

राहत इंदौरी को हिन्दुस्तान का जवाब

राहत इंदौरी ने लिखा था "सभी का खून है शामिल यहाँ की मिट्टी मेंकिसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है "~ अब इंदौरी और उसके चमचों को ये रहा हमारा भी जवाब: “ख़फ़ा होते हैं हो जाने दो, घर के मेहमान थोड़ी हैंजहाँ भर से लताड़े जा चुके हैं , इनका मान थोड़ी है ये … Continue reading राहत इंदौरी को हिन्दुस्तान का जवाब